दास्तान ‘दी रिज’

1

अगस्त में लगातार बारिश ने एक बार फिर रिज के उत्तरी ढलान पर दरारें उजागर कर दी हैं। अनियोजित निर्माण, बुनियादी ढांचे के विकास और पेड़ों की अवैध कटाई का खामियाजा शिमला के प्रतिष्ठित रिज को भुगतना पढ़ रहा है। वास्तव में विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अगर समय पर उचित कदम नहीं उठाए गए, तो इससे बड़ी आपदा भी हो सकती है।

रिज के ध्सने के बारे में पहली रिपोर्ट 2008 में सामने आई थी। 2010 तक, गेयटी थिएटर क्षेत्र के सामने उत्तरी ढलान वाले हिस्से पर पहली बार दरारें देखी गईं। तब से लगभग हर साल बारिश और बर्फ के मौसम के दौरान ये दरारें सामने आती हैं, केवल अस्थायी भारण करके समाधान किया जाता है।

शिमला एमसी के अधिकारियों द्वारा स्वीकार किया गया है कि यहाँ की मिट्टी पहले ही ढाई से तीन फीट नीचे जा चुकी है। बारिश के बाद, सतह कई मीटर धस्स राई है, और यह सब ठीक उस हिस्से पर जहां पहले कई बार ज़मीन धस्स चुकी है.

2014 में शहर के तत्कालीन डिप्टी मेयर टिकेंद्र पंवर ने रिज के नीचे की टंकियों का निरीक्षण किया, उन्हें पता चला कि उनमें दरारें विकसित हो गई हैं। इन टैंकों का निर्माण 1880 में अंग्रेजों द्वारा किया गया था और उचित रखरखाव के बिना इनमे अब दरारें विकसित हो रही हैं। इसी के बाद रिज के संरक्षण के लिए कई कदम उठाए गए रिज (टैंक के ऊपर) पर एक क्षेत्र को ‘No vehicle zone’ घोषित ‘ किया गया ‘ और यहां तक कि अंतर्राष्ट्रीय गर्मियों के त्योहार को स्थानांतरित कर दिया गया। रिज पर अन्य सभी गतिविधियों पर भी अंकुश लगाया गया था। संरक्षण की परंपरा लगभग 2017 तक जारी रही जिसके बाद ‘रिज पर गतिविधियों  का भूत’ फिर से जाग गया।

रिज से प्रधान मंत्री के भाषण के बाद शायद प्रेरणा मिली। 2017 में जब पीएम नरेंद्र मोदी ने शिमला का दौरा किया, तो उनका सार्वजनिक संबोधन रिज पर आयोजित किया गया था। जब इस रिपोर्टर ने स्थानीय विधायक से पूछा कि यह जानने के बावजूद कि रिज खतरे में है, तो पीएम संबोधन यहां आयोजित किया गया, उन्होंने बहस की कि जब पर्यटक सीजन की रात में हजारों पर्यटक रिज पर नाच कर सकते हैं, तो पीएम संबोधन क्यों नहीं। साथ ही उन्होंने 2012 में कांग्रेस सरकार द्वारा आयोजित शपथ समारोह के बारे में भी याद दिलाया।

इसके बाद 2017 में, जब नई राज्य सरकार ने कार्यभार संभाला; उन्होंने भी रिज पर शपथ समारोह का आयोजन किया। इस तरह की प्रेरित घटनाओं के बाद रिज में एक बार फिर शहर में होने वाली अधिकांश धार्मिक / सामाजिक / सांस्कृतिक / राजनीतिक गतिविधियों का केंद्र बन गया। समारोहों, Awareness drives, प्रदर्शनियों, व्यापार मेलों, शॉपिंग फेस्टिवलों, सभी कुछ वर्षों से यहां एक आम द्रिश्य  बन गए हैं। दुर्दशा इस स्तर तक बढ़ गई है कि इस वर्ष गर्मियों में एक टेंट हाउस की व्यवस्था पूरे सीजन (3 महीने) में रिज पर लगातार दिखाई दे रही थी। इसके अलावा अज्ञानी दृष्टिकोण के तहत अब दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की एक प्रतिमा भी जल्द ही यहां स्थापित की जानी है। जो की  केवल कमजोर संरचना पर अधिक वजन जोड़ना होगा ।

“रिज को पहाड़ी के नीचे से काटकर निकाला गया था। मलबे को उसके उत्तरी ढलानों में फेंक दिया गया था। हालांकि यह वर्षों से बसा हुआ है, लेकिन यह हिस्सा, विशेष रूप से रिवोली बस स्टैंड और तिब्बती बाजार की ओर, पानी के रिसने के कारण फिसलता रहता है। मॉनसून और बर्फबारी के दौरान इसका धसना एक आम बात हो गई है। ढलान भी ओवरलोड हो गए हैं। एक दिन हम एक आपदा के बारे में सुन सकते हैं, अगर कदम नहीं उठाए गए, “एनके नेगी, राज्य के मुख्य वास्तुकार ने एक मीडिया बयान में चेतावनी दी है।

संजीव भूषण शिमला निवासी और उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता ने कहा, ‘अगर हमें रिज को बचाना है, तो रैलियों और धार्मिक जुलूसों सहित सभी बड़ी सभाओं पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए।

रिज बनाने वाले ब्रितानी इसकी भेद्यता के बारे में अत्यधिक सतर्क थे। अभिलेख बताते हैं कि उन्होंने एक समय में यहां 150 से अधिक लोगों को अनुमति नहीं दी थी। पूर्व डिप्टी मेयर टिकेंद्र पंवर ने सुझाव दिया, “हालांकि यहां आगंतुकों की संख्या को सीमित करना शहर के प्रमुख केंद्र के रूप में संभव नहीं होगा, लेकिन ‘No vehicle zone area’ पर पैदल यात्रियों के प्रवेश को कम से कम रोकना चाहिए।” उन्होंने कहा कि साथ ही इंजीनियरिंग आधारित समाधान पर काम किया जाना चाहिए।

मेयर कुसुम सदरेट ने कहा, “यह एक गंभीर समस्या है। रिज को धसने से बचाने के लिए एक इंजीनियरिंग और भूवैज्ञानिक समाधान की आवश्यकता है।” हालांकि महापौर द्वारा किए गए इस संकल्प की गंभीरता को आने वाले दिनों में ही देखा जा सकता है, लेकिन रिज तत्काल ध्यान देने के लिए रो रहा  हैं।

1 COMMENT

  1. Bilkul sahi ji dukh is bat ka hota hai ki sab log iske bare main Kanye hain parantu fir bhi anjaan babe rehte hain. Ek kathin faiska lekar koi bhi gatibidhi Ridge par nahin honi chahiye aur no vehicle zone kar Dena chahiye

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here